शीशम का पेड़ Shisham Tree in hindi

शीशम Shisham Tree in hindi

शीशम का पेड़ आपलोगों ने जरुर देखा होगा. ये पेड़ सड़क किनारे, बगीचे, या जंगल आदि जगहों पर अधिक देखने को मिलता है| शीशम का पेड़ के बारे में श्याद ही लोगो जानकारी होगा कि इस पेड़ का लगभग सभी भाग उपयोगी होता है| इसलिए बहुत सारे ऐसे जगह मिलेंगे जहाँ लोग इसकी खेती भी करते है. इस पेड़ के बारे में पूरी जानकारी नीचे दी गयी है|

Shisham Tree शीशम का पेड़

यह एक सदाबहार पेड़ है. शीशम का पेड़ जो भारतीय उपमहाद्वीप का स्थाई निवासी है. इस पेड़ की ऊंचाई लगभग 30 मीटर तक हो सकता है| तथा इसकी मोटाई 9 फीट तक बढ़ सकता है. इसकी पत्तियाँ पतले होते है. जिसकी लम्बाई 12 से 15 से.मी तक हो सकता है| और इसके फूल पीला या सफेद रंग के गुच्छे आकार का होता है. इस के पेड़ की छाल मोटे एवं भूरे रंग का होता है|

शीशम का पेड़

शीशम का पेड़ के फायदे Shisham Tree Uses

इस पेड़ को कई तरह से उपयोग में लाया जाता है. जिसमे लकड़ी, पत्तियाँ, बीज, तेल आदि प्रमुख है| सागौन के बाद शीशम दूसरा सबसे मजबूत पेड़ है. जिसका लकड़ी का उपयोग फर्नीचर बनाने में किया जाता है. शीशम का पेड़ के फायदे, जिसमे मुख्य रूप से टेबल, कुर्सी, बेड, सोफा सेट प्लेबोर्ड आदि शामिल है. इस लकड़ी से बनाया हुआ फर्नीचर टिकाऊ और लम्बे समय तक साथ देता है|

सूखे लकड़ी में कीड़ा यानि दीमक का खतरा रहता है. इसलिए इसको खास तरह के केमिकल से वार्निश किया जाता है| सड़क किनारे या जंगल में पाये जाने वाले शीशम का पेड़ टेढ़ा मेढ़ा होता है. जिसमे लकड़ी का उपयोग ज्यादा नहीं किया जा सकता है|  पेड़ अगर सीधा हो तो उसका लकड़ी ज्यादा उपयोगी होता है| अंतरराष्ट्रीय बाजार में शीशम की लकड़ी की माँग बहुत अधिक है. जिसके चलते भारत में भी इसकी खेती की जाती है|

ये भी पढ़े 

आयुर्वेद में फायदे

शीशम का पेड़ किस काम में आता है. इसके  पत्तियाँ और बीज में कई तरह के औषधीय गुण पाए जाते है. जिसका उपयोग आयुर्वेद की दावा बनाने में किया जाता है| पौराणिक कथा के अनुसार शीशम के पेड़ के पत्तियों, बीज एवं तेल को कई रोगों में फायदेमंद बताया गया है|

बीज के तेल और लकड़ी के चूर्ण को त्वचा रोगों के लिए उपयोग किया जाता है. इसके अलावा या पेट रोग, अल्सर, आंतो के कीड़े, बुखार, मूत्र रोग आदि में लाभकारी है| इसके के पत्तियों से मासिक धर्मो के इलाज में भी फायदा मिलता है| आज भी ग्रामीण क्षेत्र में शीशम के पतली लकड़ी को टूथब्रश के रूप में इस्तेमाल किया जाता है| जो एक बहुत अच्छा प्राकृतिक mouth cleaner भी है|

कैंसर का इलाज Shisham tree leaves for cancer in hindi

कैंसर का इलाज आज के समय में पूर्ण रूप से संभव है. सही समय में सही उपचार मिलने से कैंसर जैसे रोगों को जड़ से ख़त्म किया जा सकता है. आयुर्वेद में बहुत से दुर्लभ जड़ी बूटी है. जिसमे बड़े-बड़े गंभीर रोग का इलाज मुमकिन है. शीशम का पत्ता से कैंसर का इलाज होता या नहीं इसका कोई भी लिखित प्रमाण मौजूद नहीं है. वैसे शीशम के पत्ते को खा सकते है. अगर चमत्कार हो जाये तो बहुत अच्छा है. क्योंकि इसके के पत्ते चबाने से कोई नुकशान भी नहीं होता है|

Sheesam Tree  के स्थानीय नाम

Dalberjia sisso  भारत में कई नमो से जाना जाता है.

उतर प्रदेश – सीसो

बिहार झारखण्ड – शीशम/ सीसो

पंजाब – सिसो राजकीय पेड़ भी है.

ये भी पढ़े 

  1. हजारीबाग कहां है और किसके लिए प्रसिद्ध है
  2.  गिरिडीह कहां है.?और गिरिडीह जिला क्यों प्रसिद्ध है. जिला कब बना
  3. लातेहार जिला के बारे मे
  4. घाटशिला कहाँ है
  5. रांची
  6. गुमला जिला कब बना
  7. खूंटी जिला कब बना
  8. जामताड़ा कहां है और जामताड़ा क्यों प्रसिद्ध है?
  9. दुमका शहर
  10. our links

 

 

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: