लिंग किसे कहते हैं लिंग कितने प्रकार के होते हैं

लिंग किसे कहते हैं, संसार में हम दो प्रकार की जातियाँ या पदार्थ देखते है| एक तो वे जो जीवधारी है, जैसे – स्त्री, पुरुष, घोडा, कुता, कबूतर, साँप आदि और दुसरे वे जो जीवधारी नहीं है, अर्थात जड़ है, जैसे नदी, पहाड़, पत्थर, ईट, लोटा, मिटटी, लोहा, पेड़, आदि-आदि|

ये भी पढ़े 

लिंग की परिभाषा

लिंग किसे कहते हैं, संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से किसी व्यक्ति, वस्तु या भाव की जाति (स्त्री या पुरुष) का बोध हो, उसे लिंग कहते है|

जीवधारियों में दो जातियाँ है – स्त्री और पुरुष| इनमे स्त्री जाति तथा पुरुष जाति की पहचान बिलकुल सरल और सहज है| जैसे – राम और सीता| हम आसानी से कह सकते है कि राम पुरुष है तथा सीता स्त्री है| जड़ वस्तुओ में लिंग की पहचान कुछ मुश्किल से होती है, हम किसी भी वस्तु में कल्पना करते है. कि अमुक वस्तु स्त्री जाति की है या पुरुष जाती की, जैसे – लता और पेड़| लता में स्त्री जाति की कल्पना करते है और पेड़ में पुरुष जाति की|

लिंग के भेद

हिंदी में लिंग के दो भेद है –

पुल्लिंग

स्त्रीलिंग 

पुल्लिंग किसे कहते हैं

पुल्लिंग किसे कहते हैं, संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से किसी व्यक्ति, वस्तु या भाव की पुरुष जाति का बोध हो, उसे पुल्लिंग कहते है| जैसे – बालक, राजा, घोडा, आदि|

निम्नलिखित पदार्थो को प्रायः पुल्लिंग में गिना जाता है;

1. भारी और बड़ी वस्तुओ के नाम, जैसे – गट्ठा, गद्दा, रस्सा, आदि|

2. ग्रह, धातु, रत्न, वृक्ष, अन्न आदि के नाम, जैसे – सूर्य, चन्द्र, राहु, केतु, शनि, मंगल, सोना, तांबा, हीरा, पन्ना, नीलम, पीपल, आम, अनार, गेंहूँ, चना, पानी, दूध, तेल, घी, आदि|

3. दिन, महीने, सन के नाम, जैसे – सोमवार, मंगलवार, चेत्र, बैशाख, ज्येष्ट, विक्रमी, संवत्, आदि|

4. पर्वतो, कुछ फूलो, व्यवसायों आदि के नाम, जैसे – हिमालय, विंध्याचल, गुलाब, कमल, गेंदा, धोबी,आदि|

इनके अलावा और भी बहुत से ऐसे शब्द है जो पुल्लिंग कहते है|

स्त्रीलिंग किसे कहते हैं

स्त्रीलिंग किसे कहते हैं, संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से किसी व्यक्ति, वस्तु या भाव की स्त्री जाति का बोध हो, उसे स्त्रीलिंग कहते है| जैसे – बालिका, घोड़ी, रानी, आदि|

निम्नलिखित वस्तुओ को प्रायः स्त्रिलिग़ में गिना जाता है|

1. नदियों के नाम जैसे – गंगा, यमुना, गोदावरी, कावेरी, कृष्णा, आदि|

2. पुस्तकों, लिपियों के नाम, जैसे – रामायण, गीता, कामायनी, साकेत, देवनागरी लिपि, ब्राही लिपि, आदि|

3. कुछ छोटी या मुलायम वस्तुओ के नाम, जैसे – रस्सी, रुई, धोती, पहाड़ी, लुटिया, आदि|

4. कुछ शब्द केवल स्त्रीलिंग में ही होते है, जैसे – कोयल, मैना, चिल, तितली, आदि|

कुछ समूहवाचक शब्द, जैसे – सभा, मंडली, कंपनी, आदि|

यह भी पढ़े

Leave a Reply

%d bloggers like this: